Shopping cart
₹0.00
Sale!

SBL Tarentula Hispanica 30 CH (30ml)

80.00

सर्दी के कारण हाथ पैर में दर्द, नसों में दर्द, खुजली की समस्या में उपयोगी।

Description

SBL Tarentula Hispanica 30 CH (30ml)
Tarentula H

Trembling Hands, legs, Cold cause symptoms, Nerve pain, vesicle, itching

टारेण्टुला हिस्पानिया TARENTULA HISPANIA

Common Name: tarent
सामान्य नाम: टैरेंट

About :
All homeopathic medicines are made from some plant or plant or organism. The drug Tarantula Hispania is also prepared from the spider’s wish. Homeopathic doctors have asked to use this medicine only after using it in various types of physical symptoms. This drug especially cures symptoms related to gynecology such as hysteria, menstruation, disorders arising in the uterus and genitals etc. The drug Tarantula Hispania is used in such neurological disease whose symptoms do not easily occur in the patient, but even with the use of this drug, even small symptoms of the disease arise and the disease ends from the root. This drug cures jaundice produced with hysteria. Use of drug Tarantula Hispania is beneficial in the symptoms of neurological disease, menstrual dysfunction and burning sensation in the upper part of the spine, etc. in a dancing person. Tarantula Hispania is used to treat symptoms like urination, urination in the bladder, and feeling of fury like ant crawling in the bladder. There is more discomfort in the patient and despite not wanting, the patient keeps on walking and the disease gets aggravated by walking. Tarantula Hispania drug is very useful in case of symptoms like epileptic seizures due to excess stimulation and desire for sexual intercourse.

सभी होमियोपैथिक औषधियां किसी न किसी पेड़-पौधे या जीवों से बनाई जाती हैं। टारेण्टुला हिस्पानिया औषधि भी मकड़े के विश से तैयार की जाती है। इस औषधि को होमियोपैथिक चिकित्सकों ने विभिन्न प्रकार के शारीरिक लक्षणों में प्रयोग करने के बाद ही इसका प्रयोग करने को कहा है। यह औषधि विशेष रूप से स्त्री रोग से सम्बंधित लक्षण जैसे हिस्टीरिया, मासिकधर्म, गर्भाशय तथा जननेन्द्रिय में उत्पन्न विकार आदि को ठीक करती है। टारेण्टुला हिस्पानिया औषधि का प्रयोग ऐसे स्नायविक बीमारी में की जाती है जिसके लक्षण रोगी में आसानी से उत्पन्न नहीं होते हैं परन्तु इस औषधि के प्रयोग से रोग के छोटे-से-छोटे लक्षण भी उत्पन्न होकर रोग जड़ से समाप्त होता है। यह औषधि हिस्टीरिया के साथ उत्पन्न पीलिया रोग को ठीक करती है। नाचने वाले व्यक्ति में उत्पन्न स्नायविक रोग, मासिकधर्म कष्ट के साथ आना तथा रीढ़ की हड्डी के ऊपरी भाग में जलन होना आदि लक्षणों में टारेण्टुला हिस्पानिया औषधि का प्रयोग लाभकारी होता है। पेशाब करते समय कूथन, मूत्राशय में सिकुड़न महसूस होना तथा मूत्राशय में चींटी रेंगने जैसी सुरसुराहट महसूस होना आदि लक्षणों को ठीक करने के लिए टारेण्टुला हिस्पानिया औषधि का प्रयोग किया जाता है। रोगी में अधिक बेचैनी उत्पन्न होना तथा न चाहते हुए भी रोगी चलता रहता है तथा चलने से रोग और बढ़ जाता है। अधिक उत्तेजना के कारण मिर्गी का दौरा पड़ना तथा अत्याधिक सम्भोग क्रिया की इच्छा होना आदि लक्षण उत्पन्न होने पर टारेण्टुला हिस्पानिया औषधि का प्रयोग अत्यंत लाभकारी होता है।

Dosage :
Take 5 drops in 1/4th cup of water three times a day.
5 बूंदों 1 / 4th कप पानी में दिन में तीन बार लें।

Additional information

Weight 80 g
Dimensions 3.5 × 3.5 × 9.5 cm

Reviews

There are no reviews yet.

Only logged in customers who have purchased this product may leave a review.

%d bloggers like this: